वक़्त की धूल 

कुछ चीज़ें कभी पुरानी नहीं होती
वक़्त की धूल उड़ जाती है ख़ुद बख़ुद
समय की ज़ंग नहीं मिटा पाती,
कई यादों की चमक ।
ये मज़बूत चट्टान वक़्त की,
काट नहीं पाती उन लम्हों की लहरों को ।
जो उफान ले रही हैं मन की रेत पर
बचपन, दोस्ती और आवारगी
अरसों पुरानी पहली दिल्लगी,
जब बचायी थी पहली ज़िन्दगी ।
सब कहते हैं वक़्त से कोई जीत नहीं सकता,
पर मेरी यादों से वो हर बार हार जाता है ।
कुछ चीज़ें कभी पुरानी नहीं होती
ख़ुद बख़ुद उड़ जाती है वक़्त की धूल

– सहर

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

Powered by WordPress.com.

Up ↑

%d bloggers like this: