शायरी के पन्नों से 

रात का हिसाब लिखे कौन ?
कौन सुबह की ख़बर रखेगा ?
किसी इमारत का हिस्सा बन जायेंगे हम-तुम,
और महफ़ूज़ हमें ये शहर रखेगा। 

जुगनुओं के साथ जागे कौन ?
कौन ख़ुद को हमसफ़र रखेगा ?
घुल जायेंगे वक़्त में लम्हा बनकर,
और याद हमें ये पहर रखेगा।  

– सहर।

Advertisements

One thought on “शायरी के पन्नों से 

Add yours

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

Powered by WordPress.com.

Up ↑

%d bloggers like this: