इरशाद-6 

ग़म-ए-दुनिया भी ग़म-ए-यार में शामिल कर लो

नशा बढ़ता है शराबें जो शराबों में मिलें। 

                                    – अहमद फ़राज़ साहब। 

Powered by WordPress.com.

Up ↑