इरशाद-11

जी में जो आती है कर गुज़रो कहीं ऐसा न हो,
कल पशेमाँ हों कि क्यूँ दिल का कहा माना नही |
                                            – अहमद फ़राज़

 

इरशाद -3

तू खुदा है न मेरा इश्क़ फ़रिश्तों जैसा,

दोनों इंसा हैं तो क्यों इतने हिजाबों में मिलें ।

                                    – अहमद फ़राज़। 

Powered by WordPress.com.

Up ↑