इरशाद -9 

धुँध सा छा गया है चारों ओर,
सुनता हूँ ख़ामोशियों का शोर
खो गया हर शख़्स इंसानियत का,
कमज़ोर सी है हर डोर ।

बहुत कुछ सोचा था,
पर लग गये शायद वक़्त को |
टूटे ख़्वाबों की काँच बटोरता हूँ,
कुछ टुकड़े मिलते हैं मोहब्बत से रंगे।

– सहर

English Translation.

There us a dense fog all around,
I listen the noise of silence.
Ever last man of humanity is lost,
every thread of love is fragile.

I planned a lot of things,
but time indeed has wings.
As I collect the pieces of my broken dreams,
I occasionally find love stained fragments. 

– sahar

इरशाद -9 

धुँध सा छा गया है चारों ओर,
सुनता हूँ ख़ामोशियों का शोर
खो गया हर शख़्स इंसानियत का,
कमज़ोर सी है हर डोर ।

बहुत कुछ सोचा था,
पर लग गये शायद वक़्त को |
टूटे ख़्वाबों की काँच बटोरता हूँ,
कुछ टुकड़े मिलते हैं मोहब्बत से रंगे।

– सहर

English Translation.

There us a dense fog all around,
I listen the noise if silence.
Ever last man of humanity is lost,
every thread of love is fragile.

I planned a lot of things,
but time indeed has wings.
As I collect the pieces of my broken dreams,
I occassionally fund sone fragments stained with love.

– sahar

Powered by WordPress.com.

Up ↑