इरशाद – 1

मेरे रक्त में कविता बह रही है,
बहते बहते मुझसे कुछ कह रही है |
– सहर

Powered by WordPress.com.

Up ↑